निशुल्क

0
20

घास पर ओस की बूंद ने आखो को
छण भर में ताजगी का एहसास।
ठंडी मंद लहलहाती हवाओ ने
पल भर में शरीर में स्फूर्ति का एहसास।
बीज ने कब छोटे से पौधे का रूप ले लिया
जीवन रक्षक वायु देने लगता है।
छोटी सी कली ने जब फूल बन कर
पल भर में वातावरण को सुगन्धित कर दिया।
सारा का सारा केवल हमारे स्वस्थ के लिए
निशुल्क सेवा कब और कौन करता है।

Rate this post
Previous articleCan You
Next articleप्रश्न?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here