प्रांजय

0
13

प्राप्त कर लेगा हर लक्ष्य.।
रहा की हर बाधा पर कर लेगा.।
न तो कोई उससे प्रतिस्पर्धा कर सकेगा कोई रोक सकेगा.।
जहाँ जहाँ वो जाएगा रोशन कर देगा वातावरण.।
यही है उसका उद्देश्य और चाहत उसकी.।

थोड़ा सा साहस कर.।
बना ले सिद्धांतो को अपने जीवन का हिस्सा.।
रहा खुद पूछे तेरा लक्ष्य.।
बढ़ता चल आगे हर अड़चन को पीछे छोड़.।
बन जा तू अप्रजित, क्यों की यही है अस्तित्व तेरा।

Rate this post
Previous articleछके
Next articleImage

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here