सपने

0
12

वास्तविकता सपना नही होती है
हर वास्तविकता पहले सपना ही होती है
सपने आकाश की ऊंचाई से भी ऊपर
पल पल हर पल एक नई ऊंचाई की तरफ 11

वह सब करने की चाह
जो अब तक अधूरा सा है
ना तो किसी तूफान का भय
ना तो किसी आंधी का तनाव 11

राह की हर बाधा को सरलता से
पार कर लेने की चाहत
हो अगर मजबूत इरादे
सही दिशा मे हो तो सपने
साकार रूप मे सर झुकाए चले आते है 11

Rate this post
Previous articleAddicts
Next articleWho Told You

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here